भारतविशेष पोस्ट

Super-30 : इस साल भी आनंद कुमार के बच्चो ने किया कमाल , 30 में से 26 स्टूडेंट्स सेलेक्ट

देश और विदेश में अपने काम से विख्यात बिहार के आनंद कुमार के इंस्टिट्यूट सुपर-30 के बच्चो ने इस बार फिर से बाजी मारी है , इस बार भी आईआईटी में 30 में से 26 छात्रों का सेलेक्शन हुआ है , आनंद कुमार उन बच्चो के लिए मसीहा है , जिनके अंदर काबिलियत भी है और पंख भी लेकिन आर्थिक तंगी से सपनों को खो देते है , और जिंदगी में वही रुक जाते है , आनंद कुमार उनके सपनों को हौसला और हकीकत में बदलने का काम करते है , आज जंहा छात्रों को प्राइवेट इंस्टिट्यूट में लुटा जाता है कोचिंग के नाम पे वहीं आनंद कुमार गरीब छात्रों को निःशुल्क शिक्षा देते है और आइआइटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में पढ़ने का सपना पूरा करवाते है , इतना ही नहीं , उन्हें रहने खाने की भी सुविधा देते है I

आपको बता दे की बचपन से पढ़ने में अव्वल और गणित के विद्वान आनंद कुमार ने अपने जीवन में बहुत गरीबी देखी है , एक समय उन्होंने पैसों के लिए पापड़ भी बेचा है , उनकी काबिलियत को देखते हुए साल 1994 में उन्होंने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए बुलाया गया, लेकिन पिता की मृत्यु और तंग आर्थिक ने उनके इस सपनो को छीन लिया , फिर आनंद कुमार ने 1992 में रामानुजन स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स खोली थी , वही से इनका कोचिंग के सफर की सुरुवात हुए थी l

गरीब होनहार बच्चों की परख के लिए एक इन्ट्रेन्स देना होता है , फिर इन्ट्रेन्स देने के बाद जो बच्चे सेलेक्ट होते है , उनको रहने , खाने , और पढ़ने की सुविधा मुफ्त में देते है , आपको बता दे की बच्चों के लिए खाना उनकी माँ पकाती है , और उनके भाई भी बच्चों को त्यारी में उनकी मदत करते है l

आपको बता दे की देश विदेश में इनके कद और पॉपुलैरिटी का पता इस बात से चलता है की आनंद कुमार पे बॉलीवुड के सुपरस्टार ऋतिक रौशन फिल्म बना रहे है , साथ ही डिस्कवरी चैनल ने सुपर 30 पर एक प्रोग्राम चला चूका है , और यॉर्क टाइम्स ने भी आनंद कुमार और उनके सुपर 30 के के बारे में लिख चुका है.

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button