टैकनोलजी

छात्रों ने बनाया ‘मिस्टर इंडिया’ की घड़ी जैसा एक कोट, पहनते ही हो जाएंगे गायब देखें डिटेल



Invisible Coat: दोस्तों जाहिर है कि आपने ‘मिस्टर इंडिया’ फिल्म तो देखी होगी। इस फिल्म में दिखाया गया है कि इसका हीरो एक घड़ी पहनकर गायब हो जाता है और कोई उसे देख नहीं पाता है। ये तो रही फिल्म की बात। हालांकि उस समय सिर्फ इसे लेकर कल्पना ही की जा सकती थी। पर तकनीक में बदलाव हुआ है और इसी तकनीक की मदद से एक ऐसा कोट तैयार किया गया है, जिसे पहनते ही इंसान गायब हो जाता है। शायद आपको यकीन न हो रहा हो। चलिए इस बारे में पूरी तरह से जानते हैं।

जानिए Invisible Coat के बारे में

आपको दें कि ये कारनामा चीन के कुछ छात्रों ने किया है। चीनी प्रकाशन, साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के मुताबिक, InvisDefense कोट ने 27 नवंबर को एक रचनात्मक प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार जीता है। ये कोई आम कोट नहीं है बल्की बहुत खास है। इस कोट को Huawei Technologies Co द्वारा चीन स्नातकोत्तर नवाचार और अभ्यास प्रतियोगिताओं में दिखाया गया था।

Follow Us On Google News

यह इनविसडिफेंस कोट दिन में अपने सरफेस पर छलावरण पैटर्न बनता है, जिससे कमरे इसे पहनने वाले को पहचान नहीं पाते हैं। वहीं रात में ये इन्फ्रारेड कैमरे को भ्रमित करने के लिए तापमान (पता लगाने वाले) मॉड्यूल के साथ गड़बड़ी करता है।

इस कोट को एक पीएचडी के छात्र ने बनाया है। इनका नाम वी हुई है। इस छात्र ने बताया कि इस कोट का जो सबसे कॉम्प्लिकेटेड हिस्सा था वह छलावरण पैटर्न था। बता दें कि इस कोट को लेकर सैकड़ों परीक्षण किए गए, जिसके बाद इसे प्रतियोगिता में शामिल किया गया।

कीमत की बात करें तो इसकी शुरुआती कीमत CNY 500 (लगभग 6,000 रुपये) बताई जा रही है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि InvisDefense कोट का इस्तेमाल युद्ध के मैदान में ड्रोन-रोधी युद्ध या मानव-मशीन टकराव में किया जा सकता है। फिलहाल अभी ये शुरूआती स्टेज में ही है और इसके आने के बाद ही ये सब पता चलेगा।

जरूर पढ़ें- ओप्पो ने भारत में लॉन्च किया Oppo Reno 8 Pro 5G का हाउस ऑफ द ड्रागन लिमिटेड एडिशन, मिलेगा सबकुछ जबरदस्त

अगर आपका भी PNB में है खाता तो मिलेगा 20 लाख रुपये का फायदा, जानें कैसे?

जबरदस्त गीजर! बिना बिजली के कर देता है पानी गर्म, बाजार में है इसकी काफी डिमांड

Nexon, Creta को पीछे छोड इस सस्ती कार ने मार्केट में उडाया गर्दा, कीमत जान उड़ जाएंगे होश

 

Aslam Khan

हर बड़े सफर की शुरुआत छोटे कदम से होती है। 14 फरवरी 2004 को शुरू हुआ श्रेष्ठ भारतीय टाइम्स का सफर लगातार जारी है। हम सफलता से ज्यादा सार्थकता में विश्वास करते हैं। दिनकर ने लिखा था-'जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनका भी अपराध।' कबीर ने सिखाया - 'न काहू से दोस्ती, न काहू से बैर'। इन्हें ही मूलमंत्र मानते हुए हम अपने समय में हस्तक्षेप करते हैं। सच कहने के खतरे हम उठाते हैं। उत्तरप्रदेश से लेकर दिल्ली तक में निजाम बदले मगर हमारी नीयत और सोच नहीं। हम देश, प्रदेश और दुनिया के अंतिम जन जो वंचित, उपेक्षित और शोषित है, उसकी आवाज बनने में ही अपनी सार्थकता समझते हैं। दरअसल हम सत्ता नहीं सच के साथ हैं वह सच किसी के खिलाफ ही क्यों न हो ? ✍असलम खान मुख्य संपादक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button