टैकनोलजी

Jio जल्द लॉन्च करेगा JioBook, काफी कम होगी 4जी इनेबल्ड लैपटॉप की कीमत 

JioBook Budget Laptop: भारत में बजट 4G फोन पेश करने के बाद, Reliance Jio अब अपना पहला कम कीमत वाला लैपटॉप लॉन्च करने के लिए तैयारी कर रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कंपनी ने इसे JioBook का नाम दिया है. माना जा रहा है कि इस लैपटॉप को अक्टूबर 2022 में लॉन्च किया जाएगा. Jio ने 4जी अनेबल्ड JioBook के लिए Qualcomm (QCOM.O) और Microsoft के साथ पार्टनरशिप की है. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि Jio लैपटॉप की कीमत 184 डॉलर यानी करीब 15,000 रुपये होगी.

रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार JioBook अक्टूबर 2022 तक स्कूलों और सरकारी संस्थानों में काम करने वाले ग्राहकों के लिए उपलब्ध होगा. इसके बाद इसे अगले तीन महीनों के भीतर बाजार के लिए उपलब्ध कराया जाएगा. शुरुआत में Jio 4G एम्बेडेड सिम कार्ड के साथ नया JioBook लॉन्च करेगा, इसके बाद इसका 5G वर्जन लॉन्च किया जाएगा. JioBook का 5G वेरिएंट Jio 5G फोन के लॉन्च के बाद आने की उम्मीद है.

स्पेशिफिकेशन की बात करें तो,  JioBook में आर्म लिमिटेड टेक्नोलॉजी की प्रोसेसर चिप लगी होगी. साथ ही इस लैपटॉप को JioOS और Windows OS के चलाया जा सकेगा.  JioBook का निर्माण भारत में Flex द्वारा किया जाएगा.

15000 रूपये में उपलब्ध लैपटॉप

बजट लैपटॉप के मौजूदा बाजार को देखते हुए उपभोक्ताओं को 20,000 रुपये से कम के विकल्प नहीं मिल रहे हैं। HP 14Q-CY0005AU, Asus-E203MAH, Lenovo Ideapad 130 APU डुअल-कोर A6 और अन्य की कीमत लगभग 20,000 है. JioBook के लॉन्च से लगभग 15,000 रुपये की कीमत पर कई कंपनियां लैपटॉप बना सकती हैं.

ये भी पढ़ें-

WEAK Passwords: कुछ सेकेंड में हैक किए जा सकते हैं ये कमजोर पासवर्ड! देखें पूरी लिस्ट

WhatsApp Trick: इन ट्रिक्स की मदद से पढ़ें डिलीट किए गए वॉट्सअप मैसेज  

Twitter Reels style video: ट्विटर अब फीड में दिखाएगा टिकटॉक और रील्स जैसे वीडियो

Aslam Khan

हर बड़े सफर की शुरुआत छोटे कदम से होती है। 14 फरवरी 2004 को शुरू हुआ श्रेष्ठ भारतीय टाइम्स का सफर लगातार जारी है। हम सफलता से ज्यादा सार्थकता में विश्वास करते हैं। दिनकर ने लिखा था-'जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनका भी अपराध।' कबीर ने सिखाया - 'न काहू से दोस्ती, न काहू से बैर'। इन्हें ही मूलमंत्र मानते हुए हम अपने समय में हस्तक्षेप करते हैं। सच कहने के खतरे हम उठाते हैं। उत्तरप्रदेश से लेकर दिल्ली तक में निजाम बदले मगर हमारी नीयत और सोच नहीं। हम देश, प्रदेश और दुनिया के अंतिम जन जो वंचित, उपेक्षित और शोषित है, उसकी आवाज बनने में ही अपनी सार्थकता समझते हैं। दरअसल हम सत्ता नहीं सच के साथ हैं वह सच किसी के खिलाफ ही क्यों न हो ? ✍असलम खान मुख्य संपादक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button