विशेष पोस्ट

वर्तमान केंद्र सरकार ने की लोकपाल की नियुक्ति …… अनुज शर्मा (युवा समाजसेवी व अन्ना सिपाही राष्ट्रीय अध्यक्ष -महात्मा हजारी लाल मेमोरियल ट्रस्ट) ने लोकपाल को लेकर महत्वपूर्ण जानकारी दी …

*सर्वप्रथम तो आप सभी देशवासियों को बधाई सहयोग के लिए धन्यवाद साथ ही आपने जो लोकपाल के लिए महत्वपूर्ण भूमिका अदाकारी है इसके लिए हम आपको हार्दिक धन्यवाद करते हैं और आगे भी आपसे इसी तरह समाज के लिए किए जा रहे सामाजिक कार्यों में सहयोग की कामना करते हैं*

*आज हम सभी के संघर्ष की और खासकर हमारे लोकनायक – जननायक , पदम श्री पद्म विभूषण वरिष्ठ समाजसेवी समाजसेवी आदरणीय श्री अन्ना हजारे जी के संघर्ष के 30 सालों की जीत हुई है!*

*यह लोकपाल का कानून भारत की जनता के प्रति जवाब दे होगा इस कानून के अंतर्गत देश के प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री,केंद्रीय मंत्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री, राज्य के मुख्यमंत्री, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री , सांसद ,पूर्व सांसद, मंत्री ,पूर्व मंत्री, सब इसके अंतर्गत आधीन होंगे यह लोकपाल भारत को भ्रष्टाचार मुक्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा इस लोकपाल के जरिए भारत फिर से भ्रष्टाचार मुक्त भारत होने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा आज भ्रष्टाचार के कारण हमारा देश विकसित देशों में अंतिम चरणों में खड़ा है भ्रष्टाचार के कारण हमारा देश विकासशील देशों में अंतिम चरणों पर खड़ा है यह हमारे लिए बड़ा सोचनीय विषय है कि भारत में भ्रष्टाचार किस तरह से और किस चरम सीमा से फल फूल रहा है । या कहें सीधे शब्दों में फल फूल रहा है। इस भ्रष्टाचार के कारण हमारे देश का बेरोजगार युवा रोजगार के लिए दर-दर भटक रहा है। चाहे वह किसी भी सरकारी नौकरी में हो या प्राइवेट नौकरी में हो या किसी भी अन्य क्षेत्र में हो बेरोजगारी चरम सीमा पर पहुंच चुकी है।*

*इस बेरोजगारी के कारण सबसे बड़ा कारण भ्रष्टाचार है। इस भ्रष्टाचार के कारण आज भारत की जनता त्रस्त त्रस्त है। हम भ्रष्टाचार मुक्त भारत करने में किस प्रकार सहयोग कर सकते हैं। यह हमें सोचना है अगर हम भ्रष्टाचार मुक्त भारत करने में किस प्रकार से सहयोग कर सकते हैं।*

*एक नया भारत बनाने में किस प्रकार की हम भूमिका निभा सकते हैं भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में किस प्रकार का योगदान दे सकते हैं आज सभी देशवासियों को अपने आपसे एक प्रश्न करना है कि हम नही रिश्वत देंगे और ना ही रिश्वत लेंगे ना ही हम भ्रष्टाचार करेंगे और ना ही हम किसी को करने देंगे।*

*अगर हम आप यही एक प्रण ले ले तो देश को बदलने से कोई नहीं रोक सकता समाज को बदलने से कोई नहीं रोक सकता और आपके क्षेत्र को बदलने से कोई नहीं रोक सकता।*

*आज भ्रष्टाचार के कारण निचले स्तर से लेकर उच्च स्तर तक भ्रष्टाचार मे लिप्त भ्रष्टाचारी नेता ,भ्रष्टाचारी अफसर शाही ,भ्रष्टाचार नौकरशाही ,भ्रष्टाचार में लिप्त – राज्य के मुख्यमंत्री, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ,सांसद, पूर्व सांसद, विधायक, पूर्व विधायक, केंद्रीय मंत्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री, अन्य भ्रष्टाचार में लिप्त हो रहे हैं।*

*इस भ्रष्टाचार के कारण आज भारत अपने विकासशील होने का किस तरह से प्रमाण दे रहा है वह दुनिया के सामने जगजाहिर है कि हम इस भ्रष्टाचार के कारण अपने युवाओं को रोजगार मुहैया नहीं करा पा रहे इस भ्रष्टाचार के कारण भारत में बेरोजगारी का स्तर उच्च स्तर पर पहुंच चुका है इस भ्रष्टाचार के कारण व्यवस्था परिवर्तन नहीं हो पा रही है ।*

*इस भ्रष्टाचार के कारण भारत का जिस स्तर से विकास होना चाहिए था भारत का उस स्तर से विकास नहीं हो पा रहा है।*

*यह हमारे लिए और भारत वासियों के लिए सोचनीय विषय है कि क्या यही हमारे वीरों का सपना था। क्या यही हमारे वीरों ने अपने देश के प्रति कुर्बानी दी । क्या यही भारत का उन्होंने सपना देखा था। हमें सोचना होगा कि हम किस तरह से भ्रष्टाचार मुक्त भारत करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगे।*

*आपसे आशा करेंगे कि जो लोकपाल भारत में स्थापित हुआ है उसको हम अपनी ओर से पूर्ण रूप से सहयोग करेंगे और भारत को फिर से विकासशील देशों की लाइन में प्रथम स्थान पर लाने की पूर्ण रूप से कोशिश करेंगे विकसित देशों में अक्सर भूमिका निभाने के लिए ओर भारत के विकास के लिए पूर्ण रूप से सहयोग करेंगे और भारत को भ्रष्टाचार मुक्त करने में जितना भी हमसे सहयोग होगा या कर सकेंगे हम पूर्ण रूप से सहयोग करेंगे इस भ्रष्टाचार के कारण आज भारत में कोई भी कार्य नहीं होता है ।*
*जी हां इस भ्रष्टाचार के कारण भारत में कोई भी कार्य नहीं होता है इस भ्रष्टाचार के कारण आज देश निम्न स्तर से लेकर या मैं सीधे शब्दों में कहूं कि हमारा देश गड्ढों में जा चुका है।*
*आज पीड़ा होती है कि हमारे युवा सक्षम होते हुए भी बेरोजगार हैं हमारे युवाओं में हमारे भारत में टैलेंट की कोई कमी नहीं है।*
*आप के सामने आज भ्रष्टाचार के कारण निचले स्तर से लेकर उच्च स्तर तक भ्रष्टाचार में लिप्त भ्रष्टाचारी नेता, भ्रष्टाचारी अफसरशाही, भ्रष्टाचारी नौकरशाही , भ्रष्टाचार में लिप्त सांसद, पूर्व सांसद, विधायक, पूर्व विधायक, मंत्री, केंद्रीय मंत्री, भ्रष्टाचार में लिप्त हो रहे हैं। भ्रष्टाचार के कारण आज भारत अपने विकासशील होने का किस तरह से प्रमाण दे रहा है दुनिया के सामने जग जाहिर है कि हम भ्रष्टाचार के कारण अपने युवाओं को रोजगार मुहैया नहीं करा पा रहे। भ्रष्टाचार के कारण- भारत का उस तरह से विकास नहीं हो पा रहा है यह हमारे भारत वासियों के लिए सोचने विषय हैं – कि क्या यही हमारे भारत के वीरों का सपना था?*
*क्या इस दिन को देखने के लिए हमारे वीरों ने अपने देश के प्रति कुर्बानी दी ?*
*क्या यही हमारे देश के वीरों ने भारत माता के लिए सपना देखा था यह हमें सोचना होगा । कि हम किस तरह भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगे । आपसे आशा करेंगे कि जो लोकपाल भारत में स्थापित हुआ है। उसको हम अपनी और से पूर्ण रुप से सहयोग करेंगे ।और भारत को फिर से विकासशील देशों की लाइन में प्रथम स्थान पर लाने की पूर्ण रुप से कोशिश करेंगे। विकसित देशो में अक्सर भूमिका निभाने के लिए भारत के विकास के लिए पूर्ण रुप से सहयोग करेंगे । और भारत को भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने व करने में जितना भी हम से सहयोग होगा हम करेंगे। भ्रष्टाचार के कारण आज भारत में कोई भी कार्य नहीं होता है ।भ्रष्टाचार के कारण देश में नौकरशाही अफसरशाही मैं बैठे ईमानदार अधिकारी इन भ्रष्टाचारियों के सामने विवश है।* *अगर यह हमारा लोकपाल भ्रष्टाचार मुक्त भारत करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है तो यह भ्रष्टाचारियों के लिए जेल जाने के अलावा और कोई रास्ता नहीं होगा। या तो उनको सुधरना होगा या फिर उनको जेल जाना होगा। यह हमें सोचना है कि भ्रष्टाचार मुक्त भारत करने में हम किस प्रकार से अपना योगदान दें और किस प्रकार से अपना योगदान दे सकते हैं। आज हमारे सामने इस भ्रष्टाचार के कारण जीता जागता उदाहरण हमारे ईमानदार अधिकारी अशोक खेमका जी, जो हरियाणा से है। इसी का एक जीता जागता उदाहरण दुर्गा नागपाल जो यूपी से है। इस भ्रष्टाचार के कारण हमारे कितने ईमानदार ऑफिसर ने अपनी जवाबदेही के प्रति किस प्रकार की भूमिका अदा करी है या हमें सोचना होगा कि यह भ्रष्टाचार किस प्रकार से देश में फल – फूल रहा है। इस भ्रष्टाचार को खत्म करने में हम किस प्रकार से अपना योगदान देंगे और दूसरों से भी किस प्रकार से योगदान की अपेक्षा की जा सकती है । आज इस भ्रष्टाचार के कारण देश की जनता लाचार है। आप चाहे किसी भी डिपार्टमेंट में जाए तो बाबू आपसे पैसे लिए बिना काम नहीं करता है । आपको चक्कर घूमाता रहता है ।आपसे चक्कर लगवाए रहता है। कभी आपसे कहता है कि यह कागज पूरा नहीं है । कभी आपसे कहता है यह कागज लेकर आइए कभी कहता है । इस कागज पर साइन नहीं है। इस कागज़ पर साइन करवा कर लाइए कभी कहता है कि यह कागज नहीं दूसरा कागज लाइए । किस प्रकार से बाबू भ्रष्टाचार को करने में अपनी भूमिका अदा करता है। गरीब परिवार सीधे शब्दों में कहें आर्थिक स्थिति से कमजोर वर्ग के लोगों के लिए किस प्रकार से शोषण होता है । शोषण को खत्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा लोकपाल । लोकपाल व्यवस्था को दुरुस्त करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा बल्कि भ्रष्टाचारियों को जेल भेजकर भ्रष्टाचार को भी समाप्त करेंगा । हमारे वीरों ने देश के प्रति अपने प्राण की आहुति जो लगाई उनका एक सपना था – स्वराज ।* *लोकतंत्र जिसकी भागदौड़ जनता के हाथ में ,जनता के लिए, जनता के द्वारा और जनता के प्रति होती है । लोकतंत्र का सीधा-सीधा अर्थ होता है लोगों के लिए, लोगों के द्वारा , लोगों से निर्मित तंत्र, यानी सीधे शब्दों में कहें जनता के लिए ,जनता के द्वारा ,जनता से निर्मित, – लोकतंत्र का सीधा समुदायिक अर्थ या कहीं सीधा अर्थ होता है जनता की भागीदारी। आज जनता किस प्रकार से आंख मूंदकर बैठी हुई है। नौकरशाही व अफसर शाही को किस प्रकार से जनता के प्रति जवाबदेही होना चाहिए। इस सरकारी अफसरशाही नौकरशाही तंत्र को आज उन भ्रष्टाचारी नेताओं के प्रति जवाबदेही ना होकर – जनता के प्रति जवाबदेह होना चाहिए । यह भ्रष्टाचार नहीं तो क्या है भारत वासियों को आपसे एक प्रश्न करना है कि भारत का लोकतंत्र सभी जातियों से मिलकर ,सभी धर्मों से मिलकर, सभी वर्गों से मिलकर ,सभी वर्णो से मिलकर बना है और कुछ लोगों ने इस लोकतंत्र का मजाक बना दिया है अफसरशाही के कारण हमारा देश में जो निर्मित हो रहा है – कही ना कही हमारी भी जवाबदेही बनती है । भ्रष्टाचार के कारण देश का टैलेंट हमारे देश के काम नहीं आता इसका आपके सामने जीता जागता उदाहरण है गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई जी जो कि तमिलनाडु से तालुकात रखते हैं । अगर भारत में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर ना पूछता तो वह टैलेंट आज हमारे देश में होता यह सोचना है कि जो हुआ सो हुआ आगे हम देश को विकासशील बनाने में विकसित देश बनाने में सक्षम भारत बनाने में कुशल विकास भारत बनाने में किस प्रकार से भूमिका निभा सकते हैं यह भूमिका हम सबको मिलकर निभानी है और भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाना है।*

*आज मैं आपके सामने लोकपाल के आधीन कौन-कौन सी अफसरशाही ?*
*कौन-कौन सी नौकरशाही?*
*और कौन-कौन से मंत्री?*
*और कौन कौन से प्रधानमंत्री?*
*कौन कौन से मुख्यमंत्री ?*
*और कौन-कौन से सांसद पूर्व सांसद ?*
*कौन-कौन से निगम पार्षद व पूर्व निगम पार्षद ?*
*इस लोकपाल के अधीन होंगे।*
*लोकपाल उनके भ्रष्टाचार में लिप्त हुए भूमिका की जांच करेगा ।*
*ना कि उनकी भूमिका की जांच करेगा बल्कि उनको सजा भी देगा।*
*और वह सजा उनकी जेल भी हो सकती है।*
*कारावास भी मिल सकता है ।*
*अब देश को बदलने से कोई नहीं रोक सकता ।*
*आज हमारा देश एक नये राष्ट्र बनकर उभरेगा ।*
*एक नई सोच बनकर उभरेगा ।*
*इस नई सोच का श्रेय इस नए देश को बनाने का श्रेय हमारे लोक नायक – जन नायक पदम श्री ,पदम विभूषण व ज्येष्ठ समाजसेवी आदरणीय श्री अन्ना हजारे जी को जाता है और उनके 30 साल के संघर्ष को जाता है।*
*जो कि उन्होंने लोकपाल के महत्वपूर्ण भूमिका अदा करी लोकपाल को बनाने मैं और लोकपाल को स्थापित करने में हमारे प्रिय अन्ना जी ने जो भी आंदोलन, व अनिश्चितकालीन अनशन किये ।*
*वह हमेशा देश सेवा समाज के लिए किए ।*
*चाहे कोई भी सरकार रही हो चाहे कोई भी व्यवस्था रही हो या कोई भी अफसरशाही रही हो या नौकरशाही रही हो हमेशा उनका प्रयत्न रहता है ।*
*देश सेवा समाज को हमेशा ऊपर रखते हैं*
*और आज उन्हीं की इस लड़ाई की देश को बदलने की सोच की जीत हुई है ।*
*इस जीत का जीत का श्रेय हमारे आदरणीय श्री अन्ना हजारे जी को व उनके द्वारा किए गए 30 साल के संघर्ष को जाता है। और सभी भारत वासियों को जाता है।*
*जो कि हमने 2011 में लोकपाल के लिए रामलीला मैदान में आंदोलन किया। किस प्रकार से पूरा देश लोकपाल के लिए खड़ा हुआ।*
*हमे यह सोचना है कि हमने जिस तरह से लोकपाल के लिए 2011 के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।*
*उसी प्रकार से हम भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में भी भूमिका निभाएंगे ।*
*भ्रष्टाचार मुक्त भारत करके दिखाएंगे इस भ्रष्टाचार के कारण आज हमारा युवा बेरोजगार है। अफसरशाही नौकरशाही और भ्रष्टाचारी नेताओं की मिलीभगत के कारण भ्रष्टाचार फल फूल रहा है और हमारे देश को ही खोखला कर रहा है । यह देश उन वीरों का है जिन्होंने अपने प्राण की आहुति देश को नयी दिशा और दशा देने में लगाई चाहे ।*
*क्यों ना उसमें हमारे युवा क्रांतिकारी भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु , हो चाहे क्यों ना उसमें हमारी महिलाओं के लिए क्रांति करते हुए झांसी की रानी लक्ष्मी बाई या सरोजिनी नायडू क्यों ना हो या यह हमारे अन्य क्रांतियों की कुर्बानी क्यों ना हो यह कुर्बानी आज 70 साल बाद व्यर्थ नहीं जाएगी।*
*इसका हम पूर्ण रूप से अपेक्षा रखते हैं लोकपाल से और साथ ही सरकार से कि लोकपाल को पूर्ण रूप से सहयोग करेंगी ।*
*चाहे वह केंद्र सरकार हो या राज्य सरकार हो भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए यह समाप्त करने के लिए यह सरकारें पूर्ण रूप से सहयोग करेंगी ।*
*हम आशा करते हैं की आप भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में अपना पूर्ण रूप से सहयोग करेंगे इस भ्रष्टाचार के कारण आज हमारी जनता का शोषण होता है या तो भ्रष्टाचार को करने के लिए मजबूर किया जाता है या पूर्ण रूप से विवश किया जाता है इस भ्रष्टाचार के कारण आज देश खोखला हो रहा है इस भ्रष्टाचार के कारण देश, समाज, क्षेत्र बदल नहीं सका जिस भ्रष्टाचार के कारण विभिन्न पदों पर बैठे अफसरशाही ,नौकरशाही जनता को किस तरह से लूटते हैं और किस तरह से जनता के टैक्स पर अपनी रंगरेलियां या कहें अपने स्वार्थ के लिए सिद्ध करते हैं । यह सोचना है कि भारत के उन वीरों का भारत है उन युवाओं का भारत है जिसमें देश को बदलने की क्षमता है। सक्षम है और क्यों नहीं बदला भी है इसका जीता जागता उदाहरण हम भारतवासियों के सामने शहीदे आजम भगत सिंह ,शहीद राजगुरू ,शहीद सुखदेव, जी हमारे सामने हैं यहां मैं कुछ त्रुटियां हैं इसके बारे में आपको अवगत कराना चाहूंगा यहां मैंने शहीद भगत सिंह जी का जिक्र किया राजगुरु जी का जिक्र किया सुखदेव जी का जिक्र किया पर क्या आपको पता है कि उनको शहीदी का दर्जा पेपरों में नहीं दिया गया यह एक इस तरह की स्थिति बनाई गई एक विचित्र स्थिति बनाई गई की हम भारत की जनता को किस तरह से मूर्ख बना सकते हैं। तो उन्होंने इस मूर्खता को सिद्ध करने के लिए हमारे सामने उनके नाम के आगे शहीद-ए-आजम भगत सिंह का जिक्र किया । वाकई सोचना होगा देश को बदलने में हम किस प्रकार से अपनी भूमिका निभा सकते हैं आज का भारत नया भारत है । युवाओं की सोच का भारत है और आज का भारत 80% युवाओं का भारत है । सोचने का विषय है कि भारत की जनता इस भ्रष्टाचार के कारण कितनी विवश है । इसका जीता जागता उदाहरण आपके समक्ष रखूंगा ईमानदार नौकरशाही में अशोक खेमका जी हूं या दुर्गा नागपाल हो या अन्य ईमानदार अधिकारी हो।*
*इस भ्रष्टाचार के कारण ईमानदारी से उनके कार्य को करने में बाधा डालते हैं और उनको सीधे शब्दों में कहें उनको ईमानदारी से कार्य नहीं करने दिया जाता है यह हमारे देश के लिए बड़ा ही घातक साबित हो रहा है।*

*अब आप सभी साथियों को लोकपाल की शक्तियां क्या होंगी उसके बारे में आपके सामने समक्ष रखूगा और इसके अधीन कौन-कौन से अधिकारी ?*
*कौन-कौन से मंत्री, प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री अन्य नौकरशाही होंगी?*

*अब मैं आप सभी साथियों को बताना चाहूंगा कि लोकपाल के आधीन देश के प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री , राज्य के मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री, सांसद, पूर्व सांसद, राज्य के मंत्री, राज्य के पूर्व मंत्री, आईएएस ,आईपीएस ,और शब्दों में कहें पूर्व आईपीएस, पूर्व आईएएस, आईआरएस, पूर्व आईआरएस लोकपाल के अधीन होंगे ।*
*सीधे शब्दों में हम कह सकते हैं। ग्रुप ए से लेकर ग्रुप डी ग्रेड तक के कर्मचारी अधिकारी, नौकरशाही, अफसरशाही, इस लोकपाल के आधीन होंगे। उनके संपत्ति का विवरण रखेगा अगर आप उनकी संपत्ति सीधे शब्दों में कहें चल – अचल संपत्ति के बारे में लोकपाल को शिकायत करते हैं तो लोकपाल को उस शिकायत का निवारण 60 दिनों के अंदर करना होगा । इस 60 दिनों के अंदर लोकपाल को अपनी जांच का दायरा निम्न स्तर से लेकर उच्च स्तर तक ले जाना होगा। उनकी संपत्ति पहले कितनी थी अब कितनी है आगे कितनी होने वाली है । अगर जनता इस लोकपाल की शक्ति का प्रयोग करेगी तो जनता भ्रष्टाचार मुक्त भारत होने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगी।*

*इस लोकपाल के आधीन सुप्रीम कोर्ट के जज , सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज या हाई कोर्ट के जज ,या हाई कोर्ट के पूर्व जज भी लोकपाल के आधीन होंगे साथ ही इसमें एनजीओ के पदाधिकारी व वह ट्रस्ट के पदाधिकारी जिसमें सरकार अपना वित्तीय सहयोग प्रदान करती है। या अनुदान करती है वह भी इस लोकपाल के अधीन होंगे।*

*आज इस भ्रष्टाचार के कारण आर्थिक स्थिति से कमजोर वर्ग के लोगों का किस प्रकार से शोषण होता है या आपके सामने है मिलीभगत के कारण किस प्रकार से उनका शोषण होता है। वह आपके सामने है उनको खाने के लिए दिए जा रहे अनाज को किस तरह से अफसरशाही से मिलीभगत होने के कारण उनको निवाले से वंचित रखा जाता है तो किस प्रकार से भारत के अफसरशाही, नौकरशाही और भ्रष्टाचारी नेता ने भारत को एक नरक की तरफ समेट दिया है अब इस नरक को खत्म करने में लोकपाल ही अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा।*

*यह लड़ाई हमारे प्रिय अन्ना जी ने 30 साल से निरंतर लड़ रहे हैं और सरकारें आई और गई निरंतर उनका प्रयास जारी रहा और आज उनका यह प्रयास कामयाबी लेकर आया है सभी भारतवासियों के लिए कामयाबी लेकर आया है। लोकपाल की नियुक्ति हुई लोकपाल की शिकायत आप ऑनलाइन भी कर सकते हैं। कितना बड़ा देश को बदलने में उनका महत्वपूर्ण सहयोग है आज उनके इस संघर्ष के लिए हम उनको कोटि-कोटि नमन व उनके स्वास्थ्य के लिए कामना करते हैं। कि उन्होंने अपने जीवन में समाज के लिए, देश के लिए क्षेत्र के लिए संघर्ष किया। उसको हम आगे बढ़ाते हुए निरंतर प्रयास करेंगे और समाज के लिए हमेशा अवसर भूमिका निभाएंगे। देश के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे । और उनके बलिदान को हम व्यर्थ नहीं जाने देंगे*

*आज भ्रष्टाचार के कारण हमारे आर्थिक से कमजोर वर्ग के लोगों के साथ बड़ी निम्न स्तर पर से लेकर उच्च स्तर तक शोषण होता है इस शोषण को समाप्त करेगा आपका लोकपाल चाहे वह अधिकारी हो या मंत्री हो सांसद व विधायक हो निगम पार्षद हो सभी इसी के लोकपाल के अधीन होंगे।*

*इस भ्रष्टाचार के कारण हमारे देशवासियों को अपने किसी भी सरकारी कार्य करने के लिए भ्रष्टाचारी अधिकारियों को या भ्रष्टाचार अफसरशाही को रिश्वत देनी पड़ती है चाहे उसमें उनको अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना हो या अपने बैंक से जुड़े हुए कार्य करवाने हो या अपने लिए या अपने कोई एक नया व्यापार स्थापित करना हो इसमें कथित तौर पर सभी अफसरशाही नौकरशाही इस भ्रष्टाचारी में लिफ्ट होती हैं और भ्रष्टाचार करने के लिए विवश होना पड़ता है इन भ्रष्टाचारियों पर ही नकेल कसेगा लोकपाल।*

*अब हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम अपने देश को अग्रसर बढ़ाने के लिए देश से भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में अपना पूर्ण रूप से सहयोग करेंगे और लोकपाल को उनकी जरूरत अनुसार जो भी हमारी तरफ से प्रक्रिया होगी हम उनको वह मुहैया कराएंगे और भ्रष्टाचार की जंग में हम भी लोकपाल के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होंगे और भारत को भ्रष्टाचार मुक्त करने में अहम भूमिका निभाएंगे । लोकपाल एक ऐसा नुमाइंदे होगा जो भ्रष्टाचारियों के लिए जेल जाने के अलावा और कोई रास्ता नहीं होगा । अगर इस भ्रष्टाचार के कारण हमारा देश पिछड़ सकता है तो लोकपाल के आने से भ्रष्टाचार खत्म होने से हमारा देश आगे भी बढ सकता है और दुनिया में देश का पहला नंबर प्रथम स्थान पर भ्रष्टाचार मुक्त भारत में भी बन सकता है । पर यह सब हम सभी के सहयोग से होगा जब तक हम सभी इस सहयोग में भागीदार नहीं बनेंगे। तो हम कैसे एक नए भारत की व भ्रष्टाचार मुक्त भारत की कल्पना कर सकते हैं। हम सबको मिलकर अपनी जिम्मेदारी का निर्माण करना होगा। मिलकर भ्रष्टाचार के खिलाफ एक नई जंग लड़नी होगी। और आपके सामने आपके साथी आपके द्वारा कोई भ्रष्टाचार हो रहा है । तो आप उसके खिलाफ आवाज़ उठाएं और लोकपाल में शिकायत दर्ज कराएं। आप के द्वारा का मतलब मैं यह पूछना चाहूंगा आपके सामने कोई अगर भ्रष्टाचार कर रहा है तो आप तुरंत कार्रवाई करें । लोकपाल के अंदर उसको निर्धारित करें कि आप उसको एक लोकपाल का डर दिखाए कि अगर आप भ्रष्टाचार करते हैं तो आपकी सलाखों के पीछे ही जगह होगी और वह जगह होगी जेल । अभी भी आप सुधर जाएं और एक नए भारत को बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाए। अगर हम सब नागरिक कर्तव्य निष्ठा नागरिक अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाएंगे तो कौन निभाएगा और आने वाली पीढ़ी को हम क्या जवाब देंगे। यह हम सब को सोचना होगा और हम सब को भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने में अपनी भूमिका निभानी होगी । जब तक हमारा समाचार भारत मुक्त भारत नहीं बनेगा। भ्रष्टाचार मुक्त भारत नहीं बनेगा तो हम कैसे नए भारत की कल्पना कर सकते हैं ।*
*यह हमारे लिए है बढ़ा सोचनीय विषय है*

*लोकपाल के संदर्भ में 30 जनवरी को जो अपने गांव रालेगण सिद्धि में अन्ना जी ने अनिश्चितकालीन अनशन किया और उस अनशन को समर्थन देने के लिए पूरे देश में अनिश्चितकालीन अनशन में धरना प्रदर्शन आंदोलन किए गए।*
*उसी कड़ी में दिल्ली से अनुज शर्मा ने जंतर मंतर पर अन्ना जी के अनिश्चितकालीन अनशन को समर्थन देते हुए 7 दिन तक अन्ना जी के अनिश्चितकालीन अनशन को समर्थन दिया और साथ ही 7 दिन तक दिल्ली के जंतर मंतर पर अनुज शर्मा ने 7 दिन तक अनिश्चितकालीन अनशन किया और आज हमारे इस अनशन का परिणाम आया है या कहीं हमें पहली कामयाबी मिली है ।लोकपाल के नियुक्ति और इसकी शिकायत आप ऑनलाइन भी कर सकते हैं ।अगर आप कोई कार्य समाज के लिए ,देश के लिए ,क्षेत्र के लिए निस्वार्थ भाव से करते हैं तो परमात्मा भी आपका साथ देता है । और उसी कड़ी में हमारे प्रिय आदरणीय अन्ना हजारे जी ने समाज के लिए , देश के लिए जो सामाजिक कार्य किए हैं वह सराहनीय है और उसी का फल परमात्मा ने उनको दिया है । और उनकी संगठन को दिया है इस संगठन ने जिस तरह से अपनी भूमिका दिल्ली के जंतर मंतर पर अनुज शर्मा के नेतृत्व में निभाई उसकी भूमिका आज आप सभी के सामने हैं और उसका फल आप सभी के सामने हैं*
धन्यवाद
आपका अपना साथी
*अनुज शर्मा*
*मोबाइल नंबर-*
*9999497453, 8851325048*
*युवा समाजसेवी व अन्ना सिपाही*
*राष्ट्रीय अध्यक्ष -*
*महात्मा हजारी लाल मेमोरियल ट्रस्ट*

*note:- आप सभी साथियों से एक आग्रह करना चाहूंगा कि आप एक नए भारत को बनाने में भ्रष्टाचार मुक्त भारत को बनाने में पूर्ण रूप से सहयोग करें और ऊपर दिए गए नंबरों पर संपर्क करें अगर आपके क्षेत्र में कहीं पर भी भ्रष्टाचार हो रहा है या आपको लगता है कि भ्रष्टाचार होने वाला है और आपके पास उसके कुछ प्रमाण है तो आप ऊपर दिए गए नंबर पर कांटेक्ट करें और हमारे भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर हमें सहयोग करें और हमारे साथ पूर्ण रूप से जुड़कर सहयोग करें और हम किस तरह से एक नए भारत को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं इसमें अपना योगदान दें और एक नए भारत को बनाने में अपना सराहनीय योगदान दें एक नए समाज का निर्माण करें एक नए भारत का निर्माण करें 1 नए राष्ट्र का निर्माण करें और भारत को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने में निर्माण करें सहयोग करें यही अपेक्षा करते हैं अपेक्षा रखते हैं आप के क्षेत्र में जहां कहीं भी भ्रष्टाचार हो रहा है या भ्रष्टाचार से वह साथी त्रस्त है तो आप हम से कांटेक्ट करें हम आपको सहयोग जरूर करेंगे हम आपके सहयोग करने की पूरी पूर्ण रूप से कोशिश करेंगे और आप को न्याय दिलाने की पूर्ण रूप से कोशिश करेंगे*
धन्यवाद

Aslam Khan

हर बड़े सफर की शुरुआत छोटे कदम से होती है। 14 फरवरी 2004 को शुरू हुआ श्रेष्ठ भारतीय टाइम्स का सफर लगातार जारी है। हम सफलता से ज्यादा सार्थकता में विश्वास करते हैं। दिनकर ने लिखा था-'जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनका भी अपराध।' कबीर ने सिखाया - 'न काहू से दोस्ती, न काहू से बैर'। इन्हें ही मूलमंत्र मानते हुए हम अपने समय में हस्तक्षेप करते हैं। सच कहने के खतरे हम उठाते हैं। उत्तरप्रदेश से लेकर दिल्ली तक में निजाम बदले मगर हमारी नीयत और सोच नहीं। हम देश, प्रदेश और दुनिया के अंतिम जन जो वंचित, उपेक्षित और शोषित है, उसकी आवाज बनने में ही अपनी सार्थकता समझते हैं। दरअसल हम सत्ता नहीं सच के साथ हैं वह सच किसी के खिलाफ ही क्यों न हो ? ✍असलम खान मुख्य संपादक

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button