भारत

केंद्र सरकार के प्रती किसानो का उबल रहा गुस्सा,सड़को पे फल ,सब्जी और दूध फेक जताई नाराजगी, 7 राज्यों में अलर्ट

नई दिल्ली :सरकार के प्रती आज देश भर के किसानो का गुस्सा फुट पड़ा , इसलिए आज देश भर के किसान अपने मांगो को लेकर सड़क पे उतर गए , आज से किसान 10 दिवसीय आंदोलन करेंगे ,राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश सहित 7 राज्यों में किसानो ने सुबह से ही प्रदर्शन किये l राष्ट्रीय किसान महासंघ ने 130 संगठनों के साथ केंद्र सरकार के खिलाफ 10 दिवसीय आंदोलन की घोषणा की है , उधर आज सुबह से ही चल रहे आंदोलन में किसानो ने फल सब्जी और दूध फेक अपनी मांगो को लेकर सरकार के प्रति नाराजगी जाहिर की , साथ ही गांव से शहर को जाने वाली दूध, सब्जी, फल को रोक दिया है जिस कारण बस शहर के लोग भी टेंशन में है , क्यूंकि किसानो के इस फैसला का प्रभाव शहरी जीवन पे बहुत पड़ेगा l

उधर मध्‍यप्रदेश के झबुआ में धारा 144 लगा दी गई है। मंदसौर में पुरे जगह पुलिस की तैनाती कर दी गयी है l मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ने कहा कि सरकार किसान आंदोलन को हिंसक बनाना चाह रही है। उसके लिए लट्ठ खरीदे जा रहे हैं, किसानों से मुचलका भरवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुचलका सीएम शिवराज सिंह और उनके मंत्रियों को भरना चाहिए, क्योंकि सबसे बड़े अपराधी तो वही हैं।
मध्यप्रदेश के साथ पंजाब में भी इसका विशेष असर दिखा , किसानो ने सड़क पे आ के अपना विरोध जताया l

उधर पुणे के खेडशिवापुर टोल प्लाजा पर किसानों ने 40 हजार लीटर दूध बहाकर विरोध जताया। यही हालत लगभग सभी जगह के रहे गुजरात हरियाणा में गांव से शहर के लिए दूध की सप्लाई साफ़ ठप कर दी गयी जिसका असर देखने को मिला l राष्ट्रीय किसान महासंघ के वरिष्ठ सदस्य गुरनाम सिंह चढूनी ने बताया की स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं करने व कर्ज माफी नहीं होने पर किसानों को यह कदम उठाना पड़ रहा है।

उधर सरकार का आरोप है की ये आंदोलन कांग्रेस समर्थित आंदोलन है , जिसे किसान संगठन ने सिरे से ख़ारिज कर दिया है l उधर 6 जून को मंदसौर गोलीकांड की बरसी के मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की आने की तयारी पे सियासी गर्मी बढ़ गयी है l6 जून को पिछले साल मारे गए किसानों को शहीद मानते हुए श्रद्धांजलि सभा होंगी।10 जून को भारत बंद का भी ऐलान किया गया है l

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button