उत्तर प्रदेश

विपक्ष को मिल गया “बीजेपी निकालो” फार्मूला , बीजेपी के छूट रहे पसीने

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में बम्पर जीत के बाद . सपा और बसपा समर्थको में जीत का माहौल है समर्थक काफी उत्साहित है l जीत के बाद अखिलेश डायरेक्ट मायावती को बधाई देने उनके घर तक पहुंचे और उन्हें जीत की बधाई दी l जीत के बाद सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और सीएम योगी पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि ‘फूलपुर में फूल मुरझा गया, घमंड टूटा’ . उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि अब भाषा बदल जाएगी.अखिलेश यादव ने इस चुनाव में पार्टी की जीत को जनता का जीत बताया है.उन्होंने इस जीत को गरीब, दलित,समाज के हर पिछड़े वर्ग की जीत बताई है l

इस फोर्मुले को आगे बढ़ाएंगे

सपा बसपा गठबंधन के इस फॉर्मूले के सुपरहिट होने के बाद अखिलेश ने कहा की ,जीत के इस नए फॉर्मूले को और तेज करना चाहते है, क्यूंकि गोरखपुर सीट उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गढ़ माना जाता था यहाँ पिछले कई सालो से उन्हें कोई नहीं हरा पाया था लेकिन इस गठबंधन के फॉर्मूले ने योगी और पूरी बीजेपी की टीम को सोचने पे मजबूर कर दिया lसाथ ही उन्होंने कहा की राजनीति में कुछ पुरानी बातें भूलानी पड़ती हैं, लोग पुरानी बातों को याद दिलाना चाह रहे हैं. हमारे संबंध हर किसी से अच्छे हैं.कांग्रेस पे उन्होंने ने बोला की हमारे सम्बन्ध अच्छे है और इसी तरह बने रहेंगे lउन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने उन्हें बधाई दी है. मैंने भी उन्हें धन्यवाद कहा.

उधर अररिया और जहानाबाद में RJD के शानदार जीत के बाद तेजश्वी यादव ने कहा की समय आ गया है विपक्ष के एक जुट होने का ,उधर पूर्व कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गाँधी ने पुरे विपक्ष पार्टी के नेताओ को डिनर पे बुला कर विपक्ष को एक जुट होने का सन्देश दे चूँकि है l तो इस वजह से कयास लगाए जा रहे है की आगामी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में अगर ऐसा हुआ तो बीजेपी के बहुत बड़ी चुनौती होगी जीत पाना l

विकास के मुद्दे पे बोले अखिलेश …

उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बहुत सारे बड़ी बाते कही ,उन्होंने कहा गोरखपुर ने बच्चों को खोया, एम्स के लिए हमने दी जमीन,गोरखपुर में विकास का कोई काम नहीं हुआ है.सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि उम्मीद है कि हार के बाद उनकी भाषा बदल जाएगी. इस सरकार ने महिलाओं की समाजवादी पेंशन रोक दी है. अगली सरकार जब हमारी सरकार बनेगी तो हम 2000 रुपए पेंशन देगी.ये जीत दलितों और पिछड़ों की जीत है.उन्होंने चुटकी लेते हुए ये भी कहा की हमारे गोरखपुर से जीते हुए उम्मीदवार इंजीनियर हैं, नट-बोल्ट ठीक करते हैं.

EVM में गड़बड़ी वरना जीत होती और भी बड़ी

EVM में धांधली पे सरकार को घेरते हुए अखिलेश ने कहा की अगर EVM में गड़बड़ी ना होती तो ये जीत और भी बड़ी होती lअखिलेश ने कहा ईवीएम की बजाए बैलट पेपर से चुनाव कराने की मांग की. अगर बैलट से चुनाव होता तो लोगो का गुस्सा और निकलता.उन्होंने कहा की चुनाव के दौरान बड़े स्केल पे EVM ख़राब हुई l

रिपोर्ट
प्रियरंजन “सुमन”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button